Saturday, 14 April 2018

Biography of Parmish Verma in hindi परमिश वर्मा की जीवनी

April 14, 2018 0
Biography of  Parmish Verma in hindi परमिश वर्मा की जीवनी  : 

दोस्तों आज हम बात करने जा रहे हैं उस कलाकार कि जिसकी लुक्का हर कोई दीवाना है आज हर दूसरा लड़का परमेश वर्मा की increase the bread ट्रेण्ड में दाढ़ी रख कर  घूम रहा है परमेश  वर्मा आज पंजाब के  मशहूर डायरेक्टर एक्टर और पार्ट टाइम सिंगर भी है 

 तो चलिए दोस्तों आज हम आपको परमेश वर्मा की पूरी जीवनी बताते हैं परमेश वर्मा का जन्म जुलाई को पटियाला में हुआ उनके पिता का नाम डॉक्टर सतीश वर्मा है परमेश वर्मा को बचपन से ही अदाकारी का बहुत शौक था क्योंकि उनके पिता सतीश वर्मा एक जाने-माने फिल्म राइटर और एक थिएटर कलाकार थे 
 इसके साथ-साथ परमिश वर्मा के पिता पंजाब यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर थे जिसके चलते बे यूनिवर्सिटी में स्टूडेंट्स को प्ले की रिहर्सल कराया करते थे जोके अक्सर उनके घर पर होती थी 

मगर उसके कुछ समय बाद ही परमेश वर्मा ऑस्ट्रेलिया चले गए और वहां उनकी शादी हो गई जिसके बाद परमेश वर्मा के लिए एक्टर बनने का सपना सदा के लिए टूट गया मगर परमेश वर्मा ऑस्ट्रेलिया में नहीं रहना चाहते थे जिसके कुछ समय बाद ही परमेश  ने अपने पिताजी से  बात की और वापस भारत आ गए परमेश वर्मा के पिताजी की पंजाब के मशहूर सिंगर गुरदास मान के साथ अच्छी दोस्ती थी जिसके लिए परमेश  के पिता ने परमेश को काम दिलाने के लिए गुरदास मान के पास मुंबई भेज दिया मगर वहां गुरदास मान के बेटे गुरकीरत मान के कहने पर परमेश वर्मा ने एक्टिंग छोड़ कर वीडियो directing की तरफ अपना ध्यान दिया जिसके बाद परमेश वर्मा वापस पंजाब आ गए क्योंकि मुंबई में नए बंदे सेट होने में काफी समय लग जाता है जिसके बाद उन्होंने पंजाब  आकर विनय पाल बुट्टर के साथ अपना पंजाबी गाना माफीनामा दो शूट किया जोके फ्लॉप रहा 

जिसके बाद परमेश वर्मा को काफी दुख हुआ मगर उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और Ninja के साथ अपना अगला गाना आदत शूट किया जिसमें उन्होंने एक्टिंग वी की और और यह गाना  सुपरहिट रहा उसके बाद निंजा के साथ ही अगला गाना कला कला ठोक दा रहा शूट किया जिसको लोगों का जबरदस्त रिस्पांस मिला इसके साथ ही परमेश ने मनकीरत औलख के साथ जुगाड़ी जट गल्ला मिट्टियां गाने शूट किए  जिनके YouTube पर मिलियन में व्यू हुए और परमेश वर्मा स्टार बन गए  जिसके बाद परमेश वर्मा ने कभी भी पीछे मुड़कर नहीं देखा और आज परमेश वर्मा म्यूजिक इंडस्ट्री में एक बहुत बड़ा नाम बन चुके हैं आज किसी भी गाने को हिट कराने के लिए परमेश वर्मा का नाम ही काफी है

तो दोस्तों यह थी परमेश वर्मा की कहानी हमें उम्मीद है कि आपको हमारा यह आर्टिकल अच्छा लगा होगा आगे से ऐसे आर्टिकल की अपडेट पाने के लिए हमारा Facebook पेज लाइक करें ताकि हम जब भी कोई आर्टिकल अपडेट करें तो आपको Facebook पर उस आर्टिकल का लिंक लिंक मिल सके अपना कीमती समय देने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद

Saturday, 31 March 2018

Biography of Roman Reigns (WWE) रोमन रेन्स की जीवनी

March 31, 2018 0
Biography of Roman Reigns (WWE) रोमन रेन्स की जीवनी  :

  दोस्तों रेसलिंग का खेल पूरी दुनिया में बहुत ही हरमन प्यारा खेल है यूं तो सदियों से बड़े-बड़े खिलाड़ी इस खेल को खेलते आ रहे हैं मगर आज मैं जिस खिलाड़ी की बात करने जा रहा हूं उसने रेसलिंग की दुनिया में थोड़े ही समय में अपना बहुत नाम कमा लिया है जी हां दोस्तों मैं बात करने जा रहा हूं रोमन रेन के बारे में । रोमन रेसलिंग की दुनिया का एक चमकता सितारा है जिसके दुनिया में लाखों की गिनती में फैन है आज मैं आपको रोमन की जिंदगी पूरी कहानी बताने वाला हूं तो चलिए दोस्तों शुरू करते हैं।
रोमन ने रेसलिंग की दुनिया में अपना प्रवेश 2010 में किया जिसके बाद कुछ ही समय में रोमन ने अपना नाम पूरी दुनिया में कमा लिया रोमन का पूरा नाम लेटी जोसेफ जॉय अनामी है। जिस को अक्सर लोग उनके रिंग नेम रोमन रेंस के नाम से जानते हैं।
रोमन का जन्म 25 मई 1985 को फ्लोरिडा में हुआ रोमन रेंस अनामी फैमिली से बिलोंग करते हैं जिस फैमिली से पहले भी कई पहलवान रह चुके हैं । जिनमें से उनके पिता सीखा अनामी और भाई रोजी भी पेशे से पहलवान रह चुके हैं । मशहूर रेसलर रोक भी इस फैमिली से बिलोंग करते हैं रोमन को बचपन में फुटबॉल खेलने का बहुत शौक था जिसके लिए उन्होंने 4 साल स्कूल के लिए फुटबॉल खेला 2008 में रोमन ने केनेडा के लिए फुटबॉल खेला यहां पर रोमन को 99 नंबर की जर्सी दी गई । वहीं से रोमन को एक पहचान मिल गई आगे चलकर 2010 में रोमन रेंस WWE के साथ एक कॉन्ट्रैक्ट साइन किया।
9 सितंबर 2010 को रोमन रेंस अपना पहला रेसलिंग मैच खेला जिसमें उन्होंने अपना रिंग नेम रोमन लियाकी रखा ।
शुरू में रोमन रेंस की रेसलिंग की शुरुआत बहुत खराब रही रोमन अपनी कैरियर के पहले 3 मैच हार चुके थे लेकिन 21 सितंबर 2010 को उनका जय हार का सिलसिला टूटा और उन्होंने फहद रकमन को हराया ।
आगे चलकर रोमन ने 2011 में डोली मार्को के साथ मिलकर टैग टीम की एक जोड़ी बनाई लेकिन यह जोड़ी भी कुछ खास नहीं कर पाई और रोमन को हार पर हार मिलती जा रही थी।  अब तक रोमन के साथ कुछ भी अच्छा नहीं हो रहा था लेकिन रोमन ने अपनी जिंदगी में हार मानना नहीं सीखा था जिसकी बदौलत वह आगे बढ़ते रहे और 2012 का साल उनके लिए बहुत अच्छा रहा रोमन ने 2012 की जनवरी में फ्लोरिडा हैवीवेट चैंपियन अपने नाम की उसी साल रोमन ने 5 फरवरी को डीन एंब्रोस और सेठ रोलिंस को भी मात दे डाली आगे चलकर जब WWE ने फ्लोरिडा चैंपियनशिप रेसलिंग के नाम को बदलकर NXT कर दिया तो रोमन ने वी अपना नाम रोमन लियाकि से बदलकर रोमन रेंस कर दिया ।
जिस नाम से आज रोमन को पूरी दुनिया में लाखों लोग जानते हैं इसी नाम से उन्होंने पहली बार WWE में CJ पारकर को हराया।
दिसंबर 2012 में रोमन रेंस ने डीन एंब्रोस और सेठ रॉलिंस के साथ मिलकर एक टैग टीम बनाई जिसका नाम उन्होंने द शील्ड रखा। इस टीम ने बहुत मैच जीते जय टीम 2012 से लेकर 2014 तक चली 2014 में रोमन और सेठ रोलिंस के बीच विवाद हो गया । जिसके बाद द शील्ड टूट गई और 21 सितंबर को सेठ रोलिंस और रोमन के बीच मैच होना था मगर रोमन की सर्जरी की वजह से रोमन रेंस ने जय मैच नहीं खेला और सेठ रोलिंस को विजेता घोषित कर दिया गया । मगर 2014 में रोमन ने फिर से रिंग में वापसी की इसी साल रोमन को सुपरस्टार ऑफ द ईयर भी घोषित किया गया ।
3 अप्रैल 2016 को एक बहुत ही बड़े मैच में रोमन ने ट्रिपल एच को हराकर वर्ल्ड हैवीवेट चैंपियनशिप अपने नाम की इसके अलावा उन्होंने यूनाइटेड स्टेट चैंपियनशिप भी जीती।
Roman Region faimly : आज हम रोमन की फैमिली और निजी जिंदगी की बात करें तो रोमन ने 2014 में गैलिना बेकर से शादी कि जिसके बाद रोमन के घर एक बेटी ने जन्म लिया जिसका नाम जिओलेनोई है।
तो दोस्तो यह थी रोमन रेंस की जिंदगी की कहानी , आप को हमारा आर्टिकल कैसा लगा कमेंट करके जरूर बताएं।

Wednesday, 14 March 2018

History of Pablo Escobar( King of kokin) पाब्लो एस्कोबार (खुनी दरिंदा )

March 14, 2018 0
History of Pablo Escobar( King of kokin) पाब्लो एस्कोबार (खुनी दरिंदा )

 Pablo Escobar


दोस्तों आपने आज तक बहुत क्राइम की बादशाहो का नाम सुना होगा लेकिन आप में से बहुत कम लोग पाब्लो एस्कोबार के बारे में जानते होंगे, पाब्लो एस्कोबार क्राइम की दुनिया दुनिया का एक बेताज बादशाह रहा है। जब 1993 में पाब्लो एस्कोबार का एनकाउंटर हुआ तो उस पर 2000 सरकारी ऑफिसर 200 जज और 1000 पुलिस कर्मचारियों को मारने का आरोप था ।

पाब्लो एस्कोबार के बारे में एक बात बहुत मशहूर है कि एक बार पाब्लो एस्कोबार ने  अपनी बेटी को ठंड से बचाने के लिए  14000 करोड रुपए  जला दिए थे और इसके अलावा पाब्लो एस्कोबार के पास इतना पैसा था कि वह 1 साल में ₹300000 की रबड़बैंड खरीदता था जिसको वह नोटों की गड्डियों के लिए यूज़ करता था ।

 Pablo Escobar Net worth 


पाब्लो एस्कोबार का जन्म 1 दिसंबर 1949को कोलंबिया में हुआ पाब्लो एस्कोबार  के पिता पेशे से एक किसान थे और उसकी माता एक टीचर थी  वह अपने 7 भाई बहनों में बहनों में से तीसरे नंबर पर आते थे उन्होंने 10 साल की उम्र में ही क्राइम की दुनिया में कदम रख लिया और वह फिरौती अपहरण जैसी गैर कानूनी काम  करने लग गया ।
उसके कुछ साल बाद बाद ही पाब्लो एस्कोबार स्मगलिंग के कारोबार में शामिल हो गया उसने यह कारोबार शुरू करने के लिए कोलंबिया से पनामा तक तक 15 बार सफर किया और अपना रूट निकाल दिया जिसके बाद उसने 15 बड़े प्लेन और 6 हेलीकॉप्टर खरीद लिए जिस से वह कोलंबिया से से अमेरिका तक कोकीन पहुंचाता था।
एक बार सरकार ने पाब्लो एस्कोबार को 18 किलो कोकीन के साथ साथ पकड़ लिया लेकिन पावलो ने   जज को   खरीदने की कोशिश की जब जज नहीं बिका तो पाब्लो एस्कोबार ने उसको  बड़े ही बेरहम तरीके से मरवा दिया जिसकी कुछ समय बाद सरकार ने  यह केस वापस ले लिया।
अपनी 25 साल की उम्र तक पाब्लो एस्कोबार अमेरिका में 80% कोकीन अकेला सप्लाई करता था जिसके लिए वह पायलट को एक रूट के लिए 5 करोड रुपए देता था। इस तरह पाब्लो एस्कोबार के पास बहुत ज्यादा पैसा इकट्ठा हो गया जिसको वह बैंक में  नहीं रख सकता था। इसलिए वह पैसे को बड़े गोदामों में जमा करता था 198 9 फोर्ब्स की एक रिपोर्ट के अनुसार पाब्लो एस्कोबार दुनिया का सातवां सबसे अमीर आदमी था मगर यह खबर छपने के  खबर छपने के कुछ समय बाद ही पाब्लो एस्कोबार के छोटे बेटे ने फोर्ब्स को फोन किया और बताया कि आप तो हमारी संपत्ति के आसपास भी नहीं पहुंचे पाब्लो एस्कोबार के पास इतना ज्यादा पैसा था कि उसका 8% चूहे और दूसरे जानवर खराब कर देते थे पाब्लो एस्कोबार ने कोलंबिया की सरकार पर जो कर्ज था । वह सारा कर्ज उतारने की बात भी कही थी मगर शर्त यह थी कि उस पर चल रहे सभी केस खारिज किए जाएं
पाब्लो एस्कोबार के पास एक अपना आलीशान घर था जो कि 20 किलोमीटर में था जिसने झील चिड़ियाघर और बहुत सारे मनोरंजन के साधन थे यहां पर दुनिया के बड़े-बड़े स्मगलर पार्टी किया करते थे ।

इसके अलावा पाब्लो एस्कोबार का एक दूसरा रूप भी था  पाब्लो ने कोलंबिया में बहुत सारे हस्पताल स्कूल और चर्च बनवाए जिसके लिए बहुत सारे लोग पाब्लो एस्कोबार को रॉबिनहुड मानते थे जहां तक की 20 से लेकर 25 साल की उम्र तक के लड़के पाब्लो एस्कोबार के एक इशारे पर अपनी जान देने के लिए भी तैयार थे।

पाब्लो एस्कोबार ने 1989 को एक जहाज को बम से उड़ा दिया था क्योंकि इसमें 1990 होने वाले चुनाव के लिए राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार डॉ लुइस था। जिसके लिए उसके साथ-साथ 120  निर्दोष लोग भी मारे गए
एक बार सरकार के दबाव के चलते पाब्लो एस्कोबार सरेंडर करने के लिए मान गया मगर उसकी शर्त यह थी के जेल का निर्माण वो खुद करवाएगा  जिसके लिए पाब्लो एस्कोबार ने एक आलीशान फाइव स्टार होटल जैसी जेल बनवाई जिसमें वह कभी भी आ जा सकता था और वहां से अपना नशे का कारोबार भी करता था।
मगर कुछ समय बाद कोलंबिया की सरकार ने उसे छोड़ दिया

सरकारी रिकॉर्ड के मुताबिक पाब्लो के समय कोलंबिया को खूनी देश भी माना जाता था क्योंकि 1991 में पाब्लो एस्कोबार के इशारे पर 25100 मौतें हुई थी 1992 में 27 00 कत्ल पावलो के इशारे पर हुए थे जिसके बाद कोलंबिया  की सरकार ने एक्शन लिया और 600 माफिया को मार दिया।



2 दिसंबर 1993 में पाब्लो एस्कोबार की पत्नी की जानकारी के मुताबिक पावलो का उसके जन्मदिन के 24 घंटे बाद एनकाउंटर कर दिया गया जिसके बाद खूनी दरिंदे का अंत हो गया।

तो दोस्तों जीत होती पाब्लो एस्कोबार की जीवनी हमें उम्मीद है कि कि है कि कि आपको हमारा आर्टिकल अच्छा लगा होगा अपना कीमती समय देने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद आप हमारे इस आर्टिकल को शेयर करके हमारा मनोबल बढ़ा सकते हैं।

Thursday, 1 March 2018

Syrian civil war , Syria crisis details in hindi ( सीरियन युद्ध की पूरी कहानी )

March 01, 2018 0
Syria crisis explained in hindi : 
दोस्तों आप ने अपनी जिन्दगी में बहुत ही बुरे से बुरे दिन देखे होंगे , मगर मैं यह दावे के साथ कह सकता हूँ के आप की जिन्दगी में इतना बुरा वक़्त कभी नहीं आया होगा जितना के सीरिया के लोगो की जिन्दगी में , सोशल मीडिया पर वायरल हो सीरिया की की यह तस्वीरे सब कुछ बिआन करती हैं , मगर दोस्तों सीरिया में यह 2011 से चला आ रहा है ,जिस में दुनिया के कई बड़े देश और आतंकवादी ग्रुप शामल हैं ,जिन में से अमेरिका , रूस , टर्की  और अबतक वहां पर 5 लाख लोगो की मौत हो गई है और 20 लाख लोग घायल हो चुके हैं जिन में से बहुत सारे बच्चे हैं , तो दोस्तों आखिर ऐसे क्या कारण थे जो के आज सीरिया में हालत इतने बत्तर हो चुके हैं आज हम आप को इनी के बारे में शुरू से बताएँगे ।
Syria cold war : दोस्तों मैं आपको बता दूँ के सीरिया में बहुत ही ज्यादा मात्र में तेल पाया जाता है और आज तक किसी भी देश ने सीरिया पर सीधा हमला नहीं किया है और दूसरा यह पूरा युद्ध सिर्फ एक शक के आधार पर लड़ा जा रहा है क्यों की लड़ाई में शामल होने वाले सभी देशो में से किसी के पास कोई सबूत नहीं है और तीसरा किसी भी देश को सीरिया में रहने वाले लोगो की जिन्दगी से मतलब नहीं है उन को सिर्फ सीरिया की जमीन से मतलब है , तो चलिए दोस्तों हम बताते हैं आप को पूरी कहानी ।


असल यह युद्ध 2011 में सीरिया की डेमोक्रेसी को लेकर शुरू हुआ , सीरिया के Daraa शहर में कुछ लोगो ने सीरिया के President Bashar Al Assad को हटाने की मांग कर रहे थे थोड़े ही समय बाद यह आन्दोलन ने एक बहुत बड़ा रूप ले लिया और इसी को दबाने के लिए March 2011 ने बशर अल अस्साद के कहने पर सीरिया की आर्मी और पुलिस ने इन पर्दर्शन कारीओ पर गोलिया चला दी , और यही से सब शुरू हुआ july 2011 आते आते उन पर्दार्श्न्करियो ने न सिर्फ हथ्यार उठा लिए , सीरियन आर्मी वी दो भागो में वट गई कुछ लोगो और आर्मी के बड़े ऑफिसर  ने आर्मी छोड़ कर पर्द्र्शकरियो को Join कर लिया ,और वही से बना Syrian Rebels ग्रुप बना इस के थोड़े समय बाद ही अल्कैदा ने अपना एक और ग्रुप Jabhat al Nusra सीरिया में बना लिया जो के अल्कैदा की एक ब्रांच थी और इस के साथ ही सीरिया के उतरी भाग के Kurdish के लड़ाके जो के काफी समय से Kurdistan की मांग कर रहे थे वोह भी Syrian Rebels के साथ मिल गए ।
Kurdistan and Iran: जून 2012 आते आते kurdish लड़ाके न सिर्फ बशर अल असाद के खिलाफ लड़ रहे थे बल्कि उन को सऊदी अरब ने पैसे और हथ्यार देना भी शुरू कर दिया और दूसरी तरफ इरान ने बशर अस्साद को मदद देना शुरू कर दिया , इस का कारण यह था के इरान ने सभी लोग शिया मुसिल्मान थे और सीरिया में शिया की सरकार थी बशर असद एक शिया मुसिलमन थे जिस के लिए ईरान ने बशर अस्साद को हथ्यार और पैसा देना शुरू कर दिया , अब यह लड़ाई एक धार्मिक लड़ाई बन चुकी थी ।
America : अगस्त 2013 में मीडिया में यह खबर आये के बशर अल असाद ने पर्दार्शंकरियो को मारने के लिए Nuclear Chemical का इस्तमाल किया है , इस के कारण अमेरिका ने इस युद्ध में शामल हो गया और उस ने सीध सीरिया पे हमला नही किया उस ने वहां पर अल्कैदा के ग्रुप Jabhat al Nusra को हथ्यार देना शुरू कर दिया ।
ISIS :  मगर कुछ समय बाद Jabhat al Nusra भी दो भागो में वट गया और वही से ISIS की सथापना हुई जो के अल्कैदा के बिलकुल उल्ट काम करता था इस लिए अमेरिका ने ISIS को रोकने के लिए सीरिया के सरकार के साथ सम्झ्जोता किया और दोनों मिल कर ISIS के अतंकवादियो पर हमला करते थे ,और दूसरी तरफ Kurdish के लड़ाके और Syrian Rebels अब पूरी ताकत में थे।


Turkey : अगर Kurdish लड़ाके इस लड़ाई में जीत जाते और Kurdishtan बन जाता है तो turky का एक बहुत बड़ा हिस्सा कुर्दिश्तान में चला जाएगा इस लिए Turkey ने बशर असाद की मदद करनी शुरू कर दी ।
Russia : इसी दौरान बशर अल असद ने सितम्बर 2015 को Russia से मदद मांगी , Russia ने तुरंत आपनी आर्मी सीरिया में भेज दी जिस के चलते जो इलाके पर्दार्शंकरियो ने रोके थे उन को वापस छुड़ा लिया गया जिस में सीरिया का सब से बड़ा शहर Aleppo भी था ।
इस तरेह अब सीरिया में पर्दार्शंकारी और आतंकवादी कमज़ोर पड़ने शुरू हो गए थे और दूसरी तरफ अमेरिका के President Donald Trump बन चुके थे जो के Obama की तरेह बशर असाद को हटाना नहीं चाहते थे इस से लोगो को लगा के अब Russia और America मिल कर सीरिया में काम करेंगे और सीरिया युद्ध ख़तम हो जाएगा , मगर इसी के वीच अप्रैल 2017 में फिर से खबर आई के सीरिया के President बशर अस्साद ने लोगो पर फिर नुक्लेअर का इस्तमाल किया है जिस से अमेरिका ने पहली वार सीरिया पर सीधा हमला कर दिया ।



इस तरेह यह छोटे से मुद्दे पर शुरू हुआ युद्ध अब इतना बड़ा रूप ले चूका हैं , इस युद्ध में कोई भी देश एक दुसरे के उपर सीधा हमला नहीं करता सब देश अपने अपने हित के लिए सीरिया को निशाना बना रहे हैं  जिस से हर रोज सीरियन लोग मर रहे हैं और इस तरेह आज भी यह युद्ध चल रहा है जिस में हजारो बेकसूर लोग मर रहे हैं , आप को हमारा आर्टिकल कैसा लगा हमे कमेंट करके जरुर बताएं , अपना कीमती समय देने के लिए आप का धन्यवाद ।
Read this 

ISIS क्या है इस के लड़ाके क्या चाहते है (History Of ISIS In Hindi)

Sunday, 25 February 2018

Biography ,Record, Income,and faimly of virat kohli in hindi विराट कोहली की जीवनी

February 25, 2018 0
 Biography,Record,Income,and faimly of virat kohli in hindi विराट कोहली की जीवनी 

दोस्तों आज के इस समय में दुनिया में ऐसा कोई cricket प्रेमी नहीं है जो Virat Kohli के बारे में ना जानता हो , जिस तरेह विराट कोहली ने अपनी मेहनत और लगन के बल पर क्रिकट में अपना नाम बनाया है उस को देखते हुए भारत के पूर्व कप्तान महिंदर सिंह धोनी के कप्तानी छोड़ते ही विराट को भारत का कप्तान बना दिया गया है , कुछ क्रिकट विशेसक तो विराट को भविख का सचिन तेंदुलकर मानते हैं , क्यों की विराट सचिन की तरेह ही बहुत ही सूझ बूझ के साथ बल्लेवाजी करते हैं , तो चलिए दोस्तों आज हम इस प्रतिभा शाली खिलाडी की जिन्दगी को शुरू से जानते हैं ,
Biography,Record,Income,and faimly of virat kohli in hindi विराट कोहली की जीवनी 

विराट कोहली का जनम 5 नवम्बर 1988 को दिल्ही के एक पंजाबी परिवार में हुआ , विराट के पिता पेशे से एक वकील हैं और उन की माता एक housewife है , विराट आपने 3 बहिन भैएओ  में से सब से छोटे हैं , विराट का बचपन दिल्ही की उतम नगर की गलियो में गुजरा ,और विराट ने अपनी शिक्षा विशाल भारती स्कूल से ग्रहण की , विराट की क्रिकट में रूचि देख कर उन के पड़ोसियो ने विराट के पिता को विराट को किसी क्रिकट अकैडमी में भेजने को कहा , जहाँ पर वोह क्रिकट को प्रोफेशन बना कर अपना पूरा ध्यान अपनी गेम पर दे , 9 वर्ष की उम्र में विराट कोहली ने Delhi cricket academy में ज्वाइन किया , और उनको राज कुमार शर्मा ने ट्रेनिंग दी , विराट क्रिकट के साथ ही पढाई में भी बहुत हुश्यार थे , विराट को उन के अधिअप्क , पड़ोसियो और उन के परिवार का खूब साथ मिला ,

विराट ने क्रिकट में आपनी पहली वार शुरुआत Delhi  U15 में ओक्टुबर 2002 में की , जब उनोह ने Polly Umirgar Trophy खेली , और 2004 के अंत तक विराट कोहली U17 में अपनी जगह पक्की कर चुके थे , Vijay Merchant Traphy में विराट ने 4 मेचो की सीरज में 450 रन बनाए ,

सब कुछ विराट कोहली के हिसाब से सही चल रहा था मगर 18 दसम्बर 2006 में विराट के पिता की मृतु हो गई जिस का  विराट के जीवन पर बहुत गहरा असर पढ़ा, हालहि में विराट ने आपनी एक इंटरव्यू में बताया “ जब मेरे पिता जी की मिरतु हुई तो वोह समय मेरे और मेरे परिवार के लिए बहुत मुश्किल भरा था , मेरा सब से बड़ा सहारा मेरे पिता जी थे , उनोह ने मुझे सब से ज्यादा सपोर्ट किया, मेरे पिता जी मेरे साथ रोज क्रिकट खेलते थे , उस समय को याद कर मेरी आज भी आँखे नम हो जाती हैं और मुझे आज भी पिता जी की कमी महसूस होती है”
विराट को जुलाई 2006 में U19 में चुन लिया गया , उन का पहला विदेशी टूर इंग्लैंड था , इस एक दिवस सीरज में विराट कोहली ने 3 मैचों की सीरज में 105 रन बनाए थे  आगे चल कर मार्च 2008 विराट कोहली भारत की U19 टीम के कप्तान बन गे ,मलेशिया में हुए U19 worldcup में विराट ने बहुत अछि कप्तानी की

2009 में विराट कोहली को पहली श्रीलंका के दौरे पर भारत की क्रिकट टीम में जगह मिली उस वक़्त जब भारत के पहले ओपनर बल्लेवाज सचिन और सहवाग चोट के चलते नहीं खेले तो विराट को उन की जगह खेलने का मौका मिला और विराट ने यह मौका न गुवाते हुए अपना पहला अर्ध शतक मारा था और उस में भारत की जीत हुई थी , तब से लेकर विराट ने कभी भी पीछे मुड कर नहीं देखा , और आज विराट कोहली भारत के तीनो फोर्मेंट के कप्तान बन चुके हैं ,
विराट कोहली का कहना है के मैं कभी भी सहमने वाले गेंदवाज को देख कर यह नहीं सोचता के वोह कितना बड़ा गेंदवाज है मैं सिर्फ यह सोचता हूँ के मेरे पीछे मेरे करोड़ो fans का आशीर्वाद है

Virat Kohli’s faimly: विराट कोहली के पिता का नाम प्रेम कोहली था जो के वकील थे 2006 में उन की मौत हो गई , विराट की माता का नाम सरोज कोहली और बड़ी बहिन भावना कोहली और एक बड़ा भाई विकास कोहली है , हालहि में विराट ने अपनी दोस्त Anushka sharma से शादी कर ली है .

Virat Kohli Records and centries: विराट कोहली ने अबतक 66 टेस्ट मैच , 208 ODI , 57 T20 और 149 IPL के मैच खेलें हैं जिन में से वेह टेस्ट में 7 वार , ODI में 28 ,T20 में 10 और IPL में 11 वार मेन ऑफ़ थे मैच बने हैं .

Virat kohli’s income : विराट कोहली की worth income $60 मिलियन है जनि के 382 करोड़ और उनकी एक साल की आमदन $19 मिलियन है , इस के इलावा विराट कोहली के पास 6 लक्ज़री कारें हैं जिन की कीमत 9 करोड़ है  जिन में Mercedes, Audi, BMW and Volkswagen जैसी कारें हैं इन में से कुछ विराट की अपनी खरीदी हुई हैं कुछ स्पोंसर के दुवारा गिफ्ट की गई हैं , इन के इलावा विराट के पास अपने दो लक्ज़री हाउस हैं एक मुंबई और एक दिल्ही में .

तो दोस्तों यह थी विराट कोहली की जीवनी हमे उम्मीद है आप को हमारा यह आर्टिकल अच्छा लगा होगा , हमे कमेंट करके आप हमारा मनोबल बड़ा सकते हैं , अपना कीमती समय देने के लिए आप का बहुत बहुत धनवाद .
Read this 

Biography Of Milkha Singh (The Flying Sikh)

Biography Of Chris Gayle In Hindi (कैसे कचरा उठाने वाला बना करोड़पति)



Thursday, 22 February 2018

10 Unsolved Mysterious places on earth (दुनिया की 10 रहस्यमय जगह)

February 22, 2018 0
दोस्तो वैसे तो हमारी पिरथ्वी बहुत ही खूबसूरत है , जहां पर बहुत सी ऐसी खूबसूरत चीज़े और स्थान हैं  । मगर खूबसूरती के साथ साथ कुछ जगह ऐसी भी हैं जो बहुत ही डरावनी और रहस्मयी हैं ।आज हम आप को दुनिया की 10 Unsolved Mysterious places on earth (दुनिया की 10 रहस्यमय जगह)  के बारे में बताएंगे जिन के बारे में विज्ञानक भी आजतक पता नही लगा सके वोह रहस ही हैं।


1. Nazaca Lines : पेरू में 600 वर्ग किलोमीटर में फैली ऐसी कला आकृतिया बनी हुई हैं जिन को सिर्फ आसमान से ही देखा जा सकता है।

 जिस को Nazaca lines भी कहा जाता है। इस मे 100 ऐसी अलग अलग कला अकीर्तिया हैं जो आकार में काफी बड़ी हैं जिस को आसमान से ही देखा जा सकता है इस मे जानवर , पक्षी और कुछ मुनष्य की आकृतियां भी शामल हैं

 , Nazaca lines को सब से पहले 1930 में देखा गया था । यह हज़ारों साल पुरानी हैं , यह इतनी बड़ी हैं के इन को धरती से कई सौ फीट ऊपर से देखा जा सकता है। इस से जुड़ी सब से हैरान करने वाली बात यह है के इतने साल पहले मनुष्य ने इस आकृतिया का विधि पूर्ण निर्माण कैसे किया होगा ।


2. Megenetic Hills : सोचो अगर आप ने किसी जगह गाड़ी पार्क की हुई है और आप कुछ समय बाद वहां आ कर देखे और आप की गाड़ी वहां ना हो तो आप क्या सोचोगे के आप की गाड़ी किसी ने चोरी कर ली है। मगर भारत के लदाख में ऐसा नही है , लदाख में एक ऐसी पहाड़ी है जो गाड़ियों को आपनी तरफ खींचती है , विज्ञानको का मानना है के इस पहाड़ी में चुम्बकीय शक्ति है जो गाड़ियों को अपनी तरफ खीचती है ।

 अगर आप गाड़ी को न्यूटल छोड़ दे तो ये 20 किलोमीटर पर घंटे की स्पीड से गाड़ी को अपनी तरफ खींच लेती है ।इस चुम्बकीय पहाड़ी से आसमान में उड़ने वाले जहाज़ भी नही बच पाते , जहां पर उड़ान भरने वाले पायलटों का कहना है के जब जहाज़ इस पहाड़ी के ऊपर से गुजरते हैं तो जहाज़ में जोर के झटके महसूस होते हैं , जिस से बचने के लिए वो जहाज़ की रफ्तार बडा देते हैं।

3. Pamukkale Turkey natural hot spring : तुरकी में मजूद pamukkale natural hot springs एक कुदरती गरम पानी के बने झरने हैं , इन की गिनती 17 है जो के वहां पर हज़ारो सालो से हैं , इस पानी मे जो मिनिरल हैं वोह हवा के सम्पर्क में आते ही केल्शियम कार्बोनेट बन जाते हैं , जो इस झरनों के साइड पर हज़ारो सालो से जमा हो रहा है जिस से यह स्विमिंग पूल का आकार ले लेते हैं, इन का तापमान 37 से लेकर 100 डिग्री के वीच रहता है

 जहां पर हर रोज हज़ारो टूररिष्ट आते हैं , कहा जाता है के ऐसे कुदरती गर्म पानी मे नहाने से हमारे त्वचा में निखार आता है।

4. Racetreck : कैलिफ़ोर्निया के रस्ट्रेक में भी एक हैरान करने वाली घटना सहमने आई है जहां पर बड़े बड़े पत्थर आपने आप चलने लगते हैं ,  इस बात ने लंबे समय तक विज्ञानको को भी हैरानी में रखा के आखिर ऐसा होता कैसे है। विज्ञानको ने 20 सितम्बर 2013 में विज्ञानको ने 60 पत्थरो को चलते देखा और उन की फ़ोटो ली। 

काफी समय के शोध के बाद विज्ञानको ने पाया के पत्थरों और धरती के वीच बर्फ की एक बारीक परत होती है , जो धूप से गलने लगती है और पानी के कण हवा के दवाब में आ जाते हैं । जिस से पत्थर अपने आप आगे चलने लगते हैं।
5. Akoigahara Forest : अकोइगहरा का जंगल japan में पाया जाता है। यह जंगल दुनिया का सब से डरावना जंगल है। इस जंगल मे जाना आप बिलकुल पसन्द नही करेंगे। क्यों कि जहां पर लोग घूमने नही मारने आते हैं , अगर आप इस मे जा कर देखे तो आप को जगह जगह लटकती लाशें और जगह जगह बिखरे जूते और बिल्कुल सन्नाटा , इस जंगल के सहमने कोई डरावनी फ़िल्म भी कम डरावनी लगे गी। यह जंगल 1600 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है। यह इतना घना है के इस मे सूरज की एक भी किरण नही जाती। 

दुनिया मे इस जंगल को डरावना जंगल जा Suicide forest भी कहा जाता है। यहां पर मरने वालों की संख्या इतनी बढ़ चुकी है के जापान सरकार को इस के आगे एक सिग्न बोर्ड लगाना पड़ा जिस पे लिखा है

 के अगर आप जहां मारने के इरादे से आए हैं तो ऐसा मत करे , ज़िन्दगी दुबारा नही मिलती, इस जिन्दगी में किसी की मदद करें। साल 2010 में ही जहां पर 265 लोगो ने आत्म हत्त्या की थी।
6. Easter island : यह चिल्ली देश का एक ऐसा दीप है जहां पर 600 पत्थर की मूर्तिया रखी हुई है। इन को मोवोई नाम से पुकारा जाता है। इन मूर्तियो को हथोड़े से तोड़ने पर भी इन मे छोटी छोटी खरोंचे ही आती है। यह मूर्तियो कई टन वजनी और काफी बड़ी बड़ी हैं ।

 यह मूर्तिया हज़ारों सालो से जहां पर है। मगर आज तक यह कोई नही जान पाया के इन को जहां पर किस ने और किस लिए रखा है। हैरान करने वाली बात यह है के इस दीप पर अबतक किसी इंसान के रहने के कोई सबूत नही मिले तो यह मूर्तिया यहाँ पर आ कैसे गई, इन मे से कुछ का वजन 100 टन से भी ज्यादा है और 30 से 40 फुट ऊंची हैं ।

7. Palmar Sur Airport : एक फ्रूट कम्पनी ने जब आपने प्लांट को स्थापित करने के लिए खुदाई करी तो उन्हें धरती के नीचे से गोल आकार के 700 पत्थर मिले।

 जिन को Shaphere stone balls भी कहा जाता है। इन का वजन 20 टन से भी ऊपर है और इन मे से कुछ का डायमीटर 7 फुट तक है। यह पत्थर हज़ारो साल पुराने हैं , हैरान करने वाली बात यह है के आज से हज़ारो साल पहले इंसान के पास ऐसा कोई उपकरण नही था जिस से पत्थरो को बिल्कुल गोल आकार दिया जा सकता था। कुछ विज्ञानको का मानना है के यह पत्थर पानी मे तैर कर आ गए जिस से इन का आकार गोल हो गया।
8. Maracaibo Lake Vanazuela : वेनेजुएला में मरकैबो नाम की एक झील है, जहां पर दुनिया की सब से तेज़ बिजली चमकती है, जहां प्रति वर्ग किलोमीटर में हर साल 2500 बार बिजली चमकने का रिकॉर्ड है।

 मई से लेकर ओकटुबेर तक जहां एक रात में 250 बार बिजली चमकती है। जिस के कारण लोग इस नज़ारे को देखने के लिए दूर दूर से लोग आते हैं।
9. Roop Kund lake: उत्तराखंड में एक रूप कुंड नाम की झील है जो पहाडों के बीचों बीच है , सर्दियो में इस झील का पानी जम्म जाता है मगर गर्मिया आते ही बर्फ पिघल कर यहां एक झील बन जाती है।

जहां पर पहुचने का रास्ता काफी मुश्किल भरा है , 1942 में कुछ लोग काफी मुश्किल के बाद यहां पहुंचे तो उन्हो ने देखा के यहां चारो तरफ इंसान के कंकाल बिखरे पड़े थे , तब से लेकर आज तक यह एक रहस्य बना हुआ है के जब इंसान यहां तक पहुंच ही नही सकता तो यह कंकाल यहां आए कैसे।
10. Old faithful : Yello stone national park USA में दुनिया के सब से ज्यादा गर्म पानी के फुफ़ारे हैं  जिन की natural geajer भी कहा जाता है।

 जिस में गर्म पानी अपने आप ही फुफ़ारे के रूप में बाहर आता है।  yello stone park में ऐसे 300 फुफ़ारे हैं इन मे से सब से famous है old faithful। यह फुफ़ारे कई फुट ऊँचा है और इस मे ऐसे विस्फोट होते ही रहते हैं मगर विज्ञानक इस बात से हैरान है के अबतक इस मे से पानी के साथ कभी भी कोई मलवा बाहर नही आया है। old faithful आप को बहुत सारी हिंदी और अंग्रेजी फिल्मो में भी देखने को मिलेगा।
तो दोस्तो यह थे दुनिया 10 Mysterious places on earth (दुनिया की 10 रहस्यमय जगह) स्थान जिन के बारे में विज्ञानक आजतक तक पता नही लगा सके ।आपको हमारे आर्टिकल कैसे लगते हैं हमे कमेंट करके बताए , अपना कीमती समय देने के लिए आप का धनयवाद ।
read this

Bhopal Gas Tragedy(History) In Hindi( भोपाल गेस कांड )

Thursday, 15 February 2018

biography of Milkha singh (The flying Sikh)

February 15, 2018 2
              Biography of milkha singh(मिल्खा सिंह की जीवनी )
मिल्खा सिंह यह एक ऐसा खिलाडी था जो भागता नहीं था उड़ता था , जिस के लिए मिल्खा सिंह को “The flying Sikh” भी कहा जाता है ,


बचपन : मिल्खा सिंह का जनम 1935 में पाकिस्तान के लिआलपुर में हुआ , मिल्खा सिंह का बचपन पाकिस्तान में ही गुजरा  मगर जब देश का बटवारा हुआ तो पाकिस्तान में वी दंगे शुरू हो गे और मिल्खा सिंह के माता पिता को मिल्खा सिंह की आँखों के साह्मने कतल कर दिया गिया , और मिल्खा सिंह आपने भागने के हुनर के दम पर ही इन दंगो से बच सके , मिल्खा सिंह ने आपनी एक इंटरव्यू में बताया था के जब उन के पिता को मारा जा रहा था तो उन के मूह से आखरी बोल निकले थे “ भाग मिल्खा भाग “ जिस के लिए मिल्खा सिंह वह से भागे और भारत आ गए ,

भारत में आ कर मिल्खा सिंह आर्मी में भारती हो गए , उस वक़्त यह कोई नहीं जानता था के यह दुगला पतला सा दिखने वाला सरदार एक दिन ऐसे हवा में उड़ने लगे गा के लोग इसे “ The flying sikh” कह कर पुकारे गे ,
 Biography of milkha singh(मिल्खा सिंह की जीवनी )
बात 1951 की है जब आर्मी में एक पालटून की क्रॉस कंट्री रेस होनी थी जिस में मिल्खा सिंह ने वी भाग लिया था , इस रेस में 500 रेसर थे , मगर जब यह रेस पूरी होई तो मिल्खा सिंह पहले 10 रेसर में से एक थे , बस वही वोह वक़्त था जिस से मिल्खा सिंह की तकदीर बदली , मिल्खा सिंह जिस को पहले कोई नहीं जानता था वोह एक रात में स्टार बन गे ,

आगे चल कर आर्मी में होलदार गुरदेव सिंह ने इन का मार्ग दर्शन किया , और बिग्रेदीअर जोहन अब्राहम जो अब रटेर हो चुके हैं उन से वी मिल्खा सिंह को बहुत प्रोत्साहन मिला ,

1956 को पहली बार मिल्खा सिंह भारत की तरफ से मेलबोर्न ओलम्पिक्स में खेले , उस वक़्त मिल्खा सिंह के पास वोह अनुभव नहीं था जो इसे अन्तराष्ट्री पद पर एक गोल्ड मैडल जिता सकता ,

1958 में एशियन गेम्स में मिल्खा सिंह 200 मीटर और 400 रेस में गोल्ड मैडल जीता , उसी साल comonwelth games में 400 मीटर की रेस में  एक और गोल्ड मैडल .

The flying sikh title : 1960 में पाकिस्तान की तरफ से मिल्खा सिंह को निओता आया मगर मिखा सिंह पाकिस्तान नहीं जाना चाहते थे क्यों की पाकिस्तान वोह धरती थी जिस पर मिल्खा सिंह का बचपन बीता था मगर पाकिस्तान वोह धरती वी थी जहाँ पर इनोह ने बहुत ही खौफनाक मंजर देखे थे जो इन का दिल देहला चुके थे , और यह उन यादों में वापस नहीं जाना चाहते थे , मगर उस वक़्त के परधान मंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरु के कहने पर मिल्खा सिंह पाकिस्तान गए ,


पाकिस्तान में यह 400 मीटर की रेस थी उस वक़्त के सब से वरिष्ठ धावक अब्दुल खलीफ के साथ यह रेस थी , उस वक़्त सभी यह सोच रहे थे के यह पतला दुगला सरदार कैसे अब्दुल खलीफ के साथ मुकाबला कर सके गा , मगर जब यह रेस शुरू होई थो मिल्खा सिंह ने सभ को गलत साबत कर दिया , और अब्दुल खलीफ को बुरी तरेह से हरा दिया ,satedium में बेठी हज़ारो बुरका पहने औरतों ने अपना निकाब हटाया और इस उड़ते हुए सरदार की झलक देखि

और उस वक़्त के पकिस्तान के जनरल अजूब खान ने कहा के मिल्खा सिंह भागा नहीं , हवा से बातें करता हुआ उड़ा है , वही से मिल्खा सिंह को यह टाइटल द फ्लाइंग सिख मिला ,
1960 के रोम ओलम्पिक में मिल्खा सिंह थोड़े ही मार्जन  से मिल्खा सिंह  मेडल से बंजित रह गे जिस के बारे में मिल्खा सिंह आज वी आपने इंटरव्यू में कहते हैं के जो मैडल उस वक़्त हमारे हाथ से छूट गया आज कोई ऐसा खिलाडी पैदा हो जो उस को वापस ली आए ,

Milkha singh’s faimly : मिल्खा सिंह का विवाह निर्मल कौर (wife) से हुआ था जो भारतीय वोलीबाल टीम की कप्तान रह चुकी हैं , इन का बेटा (son) जीत्मिल्खा सिंह एक जाना मान गोल्फर है , 

Facts about milkha singh’s life : मिल्खा सिंह ने अबतक 80 races लगाईं हैं जिस में से 77 जीती है , यह अबतक का वर्ल्ड रिकॉर्ड है अबतक किसी वी खिलाडी ने इतनी races नहीं जीती ,
मिल्खा सिंह पाकिस्तान में अपने स्कूल से घर भाग कर जाते थे जो के उस वक़्त 10 किल्लोमीटर दूर था ,
1958 में मिल्खा सिंह पहले ऐसे भारतीय थे जीनो ने आजाद भारत को पहली वार गोल्ड मैडल दिलाया था ,
मिल्खा सिंह की जिन्दगी पर एक एक bollywood की movie बन चुकी है जिस का नाम है “bhag milkha bhag” जिस में फरहान अख्तर ने मिल्खा सिंह का रोल किया है ,

read this 

Biography Of Thomas Alva Edison In Hindi


दोस्तों यह थी मिल्खा सिंह की कहानी आप को हमारा आर्टिकल कैसा लगा हमे कमेंट करके जरुर बताएं , 

Sunday, 11 February 2018

Biography of Bill Gates ( History of Microsoft)

February 11, 2018 0

Biography of Bill Gates ( History of Microsoft)
“गलतिया तो सब से होती हैं मगर जो आदमी गलतियो को सुदारने की कोशिस करता है वही जिन्दगी में सफल होता है  “यह कहना है दुनिया के सब से अमीर विअकती Bill Gates का , जो आपनी मेहनत और लगन के बल पर आज इस दुनिया के सब से अमीर आदमी हैं , कहा जाता है के Bill Gates के पास आज इतना पैसा है के अगर वोह अपना अलग देश वी बना ले तो वी वोह दुनिया का 37व सब से अमीर देश होगा ।

total property of bill gates : बिल गेट्स की अगर कमाई की बात करे तो वोह दुनिया के सब से अमीर आदमी हैं जिन की सम्पति 80 बिलियन डोलर है , अगर हम रुपे की बात करें तो बिल गेट्स एक दिन में 102 करोड़ रुपे कमाते हैं , कहा जाता है के अगर बिल गेट्स अपनी सम्पति का सारा पैसा दुनिया में बांटे तो हरेक आदमी के पास 5000 रुपे आ जाएंगे ,

Biography of Bill Gates: बिल गेट्स का पूरा नाम William Henry Gates है , उन का जनम 28 ओक्टुबर 1955 में washington में हुआ था . बिल गेट्स के पिता पेशे से एक मशहूर वकील थे , जिस के कारण वोह वी चाहते थे के उन का बेटा वी बड़ा हो कर एक मशहूर वकील बने , जिस के लिए उन के माता पिता ने बिल को वह के सब से बड़े स्कूल leckside school में दाखला दिला दिया , मगर बिल गेट्स का पढाई में मन नहीं लगता था उन का ध्यान स्कूल में लगने वाली कंप्यूटर क्लास में होता था जिस को वोह ध्यान से सीखते थे , बिल गेट्स को कंप्यूटर सीखने से ज्यादा कंप्यूटर कैसे काम करता है उस पर ज्यादा ध्यान होता था .

आपनी 13 साल की उम्र में ही बिल गेट्स ने एक गेम बनाया जिस का नाम Tic Tac Toe था , जो के कंप्यूटर में काम करता था . इस गेम को कोई वी आदमी इकेला खेल सकता था , इसी के दौरान बिल गेट्स को एक दोस्त मिला जिस का नाम Pual Ellon था, दोनों अपना सारा वक्त स्कूल की लैब में बताते थे , मगर कुछ समय बाद स्कूल वालों ने दोनों को स्कूल की कंप्यूटर लैब में जाने की पाबंदी लगा दी , क्यों की उनोह ने लैब के कई कंप्यूटर के प्रोग्राम के साथ छेड़ छाड़ की जिस के चलते वोह कंप्यूटर खराब हो गए थे , मगर थोड़े समय बाद उन को लैब में जाने की अनुमति मिल गई मगर इस बार शर्त यह थी के वोह प्रोग्राम में से error निकाले गे . बाद में बिल गेट्स ने स्कूल वालों के लिए एक सॉफ्टवेर बनाया जो स्कूल के टाइम टेबल में काम आता था ,

15 साल की उम्र में बिल गेट्स और उन के दोस्त पॉल एलन ने एक और सॉफ्टवेर बनाया , जो शहर के ट्रैफिक पर नज़र रखता था , इस खोज के लिए बिल गेट्स और उस के दोस्त पॉल एलन को 20 हज़ार डोलर मिले जो के उन की पहली कमाई थी ,
आपनी स्कूल की पढाई पूरी करने के बाद बिल गेट्स ने Hawerd University में दाखला ले लिया , बिल गेट्स का ध्यान पढाई में बिलकुल नहीं लगता था वोह आपनी एक बड़ी कम्पनी खोलना चाहते थे , जिस के लिए बिल गेट्स ने बिना Greduation  आपनी पढाई छोड़ दी और आपनी कम्पनी की तरफ ध्यान देने लगे ,

Microsoft की शुरुआत :  26 नवम्बर 1976 को उनो ने microsoft को registered कराया , सब से पहले microsoft कंप्यूटर प्रोग्राम बनाया करती थी , मगर कुछ समय बाद microsoft गेमिंग , मोबाइल , और बहुत सारे product बनाने लग गई , और आज microsoft दुनिया की सब से बड़ी कम्पनी है ,

Interesting fact
बिल गेट्स  कहते हैं के उन की कम्पनी की सम्पति पर उन के बचों का कोई हक नहीं है ,, बिल गेट्स का मानना है के वोह आपने बचों को अची सिक्षा देंगे , आगे चल कर उन को आपने रस्ते खुद बनाने हैं
बिल गेट्स बचपन से ही जरूरत मंद लोगो की मदद करते थे , आज वी वोह गरीब और जरूरत मंद लोगो के लिए हर साल करोड़ो रुपे दान कर देते हैं ,

बिल गेट्स का कहना है के “अगर आप गरीब परिवार में जन्मे हैं तो यह आप की गलती नहीं है अगर आप सारी जिन्गदी गरीबी में ही बिता देते हैं और गरीब ही मर जाते हैं तो यह आप की गलती है “ 
तो दोस्तों यह थी बिल गेट्स के जीवन की कहानी आप को यह कहानी कैसी लगी हमे कमेंट करके जरुर बताए , धन्यवाद