History of The apple in hindi (Steev Job's biography)

Share:
                      History of apple  in hindi

दोस्तों आप सब apple के बारे में तो जानते हैं मगर आप में से बहुत लोग apple से जुड़े कुछ तथ नहीं जानते होंगे आज हम आप को apple की सारी हिस्ट्री से जानू कराएगे तो चलिए दोस्तों शुरू करते हैं .

 History of apple  : स्टीव जॉब्स जो के apple के founder हैं , स्टीव जॉब्स का जनम 24 फरबरी 1955 को कैलिफ़ोर्निया में हुआ था , स्टीव की माँ ने कॉलेज में पढने के दोरान ही स्टीव को जनम दिया तब तक उन की शादी किसी से नहीं हुई थी इसी वजह से उनो ने स्टीव को किसी को गोद देने का फैसला किया स्टीव जॉब्स को काल्लिफोर्निया में रहने वाले पॉल और कालरा जॉब्स ने गोद लिया स्टीव ने शुरू में Monta Loma school से अपनी पढाई शुरू की और 1972 को Reed college में दाखला लिया जो के वहा का सब से महंगा college था जिस की वजेह से उस के माँ बाप स्टीव की फीस नहीं भर पाते थे जिस के लिए स्टीव ने छुट्टी वाले दिन coldrink वेचना शुरू कर दिया और पैसा बचाने के लिए पास के मंदर में मुफ्त खाना खाते थे अपने होटल के रूम का कराया बचाने के लिए अपने दोस्त के रूम में जमीन पर सो जाया करते थे इंतना कुछ करने के बाद वी पूरी फीस नहीं जुट पाती थी जिस के लिए उनो ने college छोड़ दी 

.
उस के बाद स्टीव अपने सोचे हुए बिजनेस पर पूरा समय लगाने लगे उस ने अपने school के दोस्त वोजनिया के साथ मिल कर अपने पिता के छोटे से गिराज़ में ओप्रतिंग सिस्टम “macintosh” तयार किया और इस ओप्रतिंग सिस्टम को वेचने के लिए apple नाम का कंप्यूटर बनाना चाहते थे लेकिन पैसो की कमी के कारण वोह ऐसा नहीं कर पा रहे थे

उन की यह समस्सया उन के एक दोस्त माइक मुर्कुल्ला ने दूर कर दी और उस के बाद 1976 में सिर्फ 20 साल की उम्र में उनो ने apple कम्पनी की शुरुआत की , स्टीव और उस के दोस्तों की मेहनत से apple थोड़े ही समय में एक गिराज से 2 अरब डोलर और 4 हज़ार कर्मचारियो वाली कम्पनी बन चुकी थी

मगर कुछ समय बाद उन के दोस्तों दुवारा स्टीव को न पसंद किए जाने और आपस में अन् बन के कारण कम्पनी क़र्ज़ में डूब गई जिस के बाद उन के दोस्तों ने स्टीव को दोषी ठहरा कर 1985 को उनेह कम्पनी से बहार कर दिया यह स्टीव की जिंदगी का सब से दुखत पल था क्यों  की जिस कम्पनी को स्टीव जॉब ने इतनी मेहनत से बनाया था उस कम्पनी से स्टीव को बहार निकाल दिया गिया था


स्टीव के जाते ही कम्पनी की हालत बहुत खराब हो गई मगर कुछ समय बाद स्टीव ने नेट इंक और पिक्स्लेर नाम की दो कंपनियो की शुरुआत की और वोह वी काफी सफल रही मगर apple अब टूटती जा रही थी , ऐसा होता देख कम्पनी के बोर्ड अफ डायरेक्टर ने स्टीव को कम्पनी में वापस आने को बहुत रिक्वेस्ट की 1996 को स्टीव ने apple को फिर से ज्वाइन कर लिया और पिक्स्लेर को apple के साथ जोड़ दिया स्टीव अब apple के CEO बन चुके थे जब स्टीव apple में आए थे उस वक़्त apple के करीब 250 प्रोडक्ट थे मगर स्टीव ने आने के कुछ साल बाद इन की संख्या 10 कर दी उनो ने सिर्फ 10 प्रोडक्ट पर अपना ध्यान दिया और 1998 को उनो ने “ I mac”  को बाज़ार में लांच किआ जो के काफी चला और उस के बाद apple ने कभी वी पीछे मुड कर नहीं देखा बाद में apple ने i phone और i pad वी लांच किए
5 ओक्टुबर 2011 को स्टीव जॉब्स का निधन हो गिया और आज वी लोग स्टीव को याद करते हैं और करते रहेगे

“ जो लोग पागलो की तरह यह सोचते हैं के वोह दुनिया बदल देंगे
   वोह सच में दुनिया बदल देते हैं “   

                           Steev Jobs


आप को हमारा आर्टिकल   History of apple  in hindi   कैसा लगा हमे कॉमेंट करके बताए ,हमारे आर्टिकल रोजाना पढने के लिए हमारा app डाउनलोड करे



                        Education Hindi apk

No comments