Saturday, 14 October 2017

Rohingya musilman's issue/Crisis in hindi(रोहिंग्या मुसिल्मानो की क्या सम्म्साया है उन को देश से क्यों निकाला जा रहा है )

                 
दोस्तों आप ने अख़बार और न्यूज़ में रोहिंग्या मुस्लिमानो के बारे में पढ़ा होगा हर अखबार के पहले पेज पे रोहिंग्या मुसिल्मानो के बारे में कुछ न कुछ लिखा होता है ,आज के टाइम यह issue भारत , चीन , बांग्लादेश , थाईलैंड , ऑस्ट्रेलिया के लिया बहुत बड़ी समम्स्या बना हुआ है आने वाले exam में रोहिंग्या मुसिलाम्नो पर कुछ सवाल वी पूछे जा सकते हैं तो इस लिया आज हम आप को बताएँगे के रोहिंग्या मुसिल्मान कौन है और इन को म्यांमार आपने देश से क्यों निकाल रहा है इस का भारत पर क्या असर होगा और इस मुश्किल को कैसे हल किआ जा सकता है।

History ऑफ़ रोहिंग्या :सब से पहले हम जानते हैं के रोहिंग्या कौन हैं , रोहिंग्या एक मुसिलमन जाती है जो के सुन्नी धर्म को belong करती है यह म्यांमार का रिहान एरिया जो के बंगाल के बॉर्डर पर लगता है वहाँ रहते है सब से पहले यह रिहान में राज करने वाले राजा “ नारा मेखला ‘ के दरबार में नौकर थे उस वक़्त के राजाओ ने अपने दरबार में मुस्लिम पदवियो को रखा जिस लिए यह रेहान में बढ़ते गए ।

साल 1785 को वर्मा पर बुधो का हमला हुआ उनो ने रिहान में रहने वाले मुस्लिमानो को मारा और बाकी को वहाँ से खिदेड दिया इस दोरान करीब 35000 लोक बंगाल चले गए उस के बाद 1826 रिहान अंग्रेजो की कब्ज़े में आ गिया उनो ने बंगाल से इन को बुलाया और रिहान में वसने को कहा जिस की वजेह से बड़ी तदार में मुसिलमन वहा पहुंचे और म्यांमार के रिहान स्टेट में रहने लगे जिस की वजेह से वहां के बुधि इन को नफरत की निगाह से देखने लगे उस के बाद दूसरा विशव युद्ध हुआ जिस से म्यांमार में जापान का दबदबा बड़ा और अंग्रेज रिहान को छोड़ गे जिस के बाद वहां के लोगो ने रिहान के मुसिल्मानो को मारना शुरू  कर दिया  रोहिंग्या मुसिलमन यह चाहते थे के यहाँ अंग्रेज दुबारा आ जाए तो उन के लिए अच्छा होगा जिस लिए उनो ने जापानी सैनको की जासूसी करनी शुरू कर दी जब जापान को इस चीज़ का पता चला तो वहां अतयाचार और बढ़ गे और लाखो मुसिल्मान एक वर फिर बंगाल चले गे 1962 में इन मुसिल्मानो ने अपने लिए अलग रोहिंग्या देश की मांग की जो वहां की सरकार ने नहीं मानी तब से यह बिना देश वाले बन कर घूम रहे हैं।

1982 में म्यानमार की सैनको ने इन के सारे अधिकार छीन लिए इनको मारा गिया rape हुए घरो को जलया गया और यह तब से लेकर अबतक चला आ रहा है ।
कुछ समय पहले रोहिंग्या मुसिल्मानो की एक ग्रुप “ islamist jihadist” ने म्यांमार की फ़ौज की एक पोस्ट पे हमला कर दिया इस के बदले में उन की फ़ौज ने रेहान के मुसिल्मानो पर हमला कर दिया उन के घर जल्ला दिए  जिस के कारण अब फिर से वोह लोग रेहान छोड़ कर बंगाल और भारत में घुसने शुरू हो गे।


भारत पर असर : कुछ समय पहले भारत में bhodhgya जो के बुध धर्म का मंदिर है वहाँ बुम्ब धामाका हुआ जिस ने इस की जिमेवारी ली थी उस ने कहा था के हमारे रोहिंग्या में मुसिल्मानो पर हमले हो रहे हैं जिसका बदला लेने के लिए हम ने यह किआ जिस के लिए यह भारत की secourty के लिए खतरा है इस के इलावा हजारो में मुसिल्मान भारत आ रहे हैं जिन के लिए खाना और रहने को भारत की तरफ दे दिया जाता है जिस से हमारी इकॉनमी पर असर पढता है।  


भारत इस मुश्किल को कैसे हल कर सकता है : भारत एक ऐसी टीम बना सकता है जो म्यांमार की सरकार के साथ मिल के काम करे और इस को solve करे ।
भारत इस issue को ASEAN और BIMSTEC में उठाए और म्यांमार पर दबाव डाले इस issue को हल करने का ।
भारत में बुध धर्म वी है और यहाँ बोधगया में म्यांमार से हजारो सैलानी आते है और बुधिसम का जनम वी भारत में हुआ और भारत और म्यांमार के बुद्धिस्ट नेताओ की मीटिंग होती है जिस के लिए भारत के बुद्धिस्ट नेता म्यांमार पर इस issue को हल करने का दवाब दाल सकते हैं।

Read this इन्टरनेट से पैसे कमाने के 5 तरीके


  दोस्तों अगर आप को हमारा यह आर्टिकल अच्छा लगा तो बेनंती है के इस को शेयर जरुर करे , धन्यवाद

No comments:

Post a Comment