Tuesday, 14 November 2017

Fact about nuclear and hydrogen bomb explosion and range in hindi

Fact about nuclear bomb and atom bomb
दोस्तों आज मैं आप से परमाणु बम्ब के बारे में बात करने जा रहा हु के यह कितनी प्रकार का होता है और एक परमाणु बम्ब की मार क्षमता कितनी है मतलब के यह कितनी दूर तक मार कर सकता है । इस के साथ ही हम यह वी जाने गे एक परमाणु बम्ब के फटने के बाद वहां रहने वाले इंसानो के ऊपर इस का क्या असर हो सकता है । 
Type of Nuclear bomb :
दोस्तों परमाणु बम्ब 2 किसम के होते है , पहला होता है एटम बम्ब , जिस के हम A बूम वी कहते हैं , दूसरा होता है हायड्रोजन बम्ब ।
जो सब से पहले हिरोशिमा पर बम् गिराया गया था जिस का नाम था "Little Boy " जो के 13 से 18 किलोटन का था जिस में Urenium का इस्तेमाल हुआ था और दूसरा जो नागासाकी पर गिराया गया था वोह था "Fat Man" जो के 20 से 22 किलोटन ऑफ़ TNT का था , जिस में Plutonium का इस्तेमाल किया गया था। जिस के बाद जापान को आत्म समर्पण करना पड़ा था।

Read this Why North Koria warned USA for Nuclear War

nuclear bomb in india
यह तो थे पुराने बम आइए अब जानते हैं नए बमो के बारे में दोस्तों भारत ने जो बम का परीक्षण किया था उस का नाम था " Smiling Budha" जो के 1974 में किया गया था जो के 12 किलोटन का था। इस के बाद दूसरा परीक्षण किया गया था 1998 में नाम था Pokhran 2 इस बम की क्षमता थी 200 किलोटन थी, और पाकिस्तान ने वी इसी वर्ष "Chagai 1 " परीक्षण किया था उस के कुछ ही दिन बाद पाकिस्तान ने "Chagai 2 " का परीक्षण किया जो के 20 किलोटन ऑफ़ TNT था।
तो दोस्तों अब हम जानते हैं के अगर किसी देश के ऊपर 1 मेगाटन का बम्ब गिरे तो उस की मार क्षमता कितनी होगी ।
What is range of Nuclear Bomb :
दोस्तों जब परमाणु बम्ब गिरता है तो जिस जगह पर वोह फटता है वहां ज्यादा नुकसान करता है , जैसे जैसे उस की रेंज कम होती जाती है वैसे वैसे वोह कम नुकसान करता है । इस लिए हम एक Nuclear Bomb की Range को 4 हिस्सो में बांटेगे । 

Region 1 : यह वोह एरिया है यहाँ पर बम्ब फटेगा , एक मेगाटन के बम्ब के फटने के बाद जहाँ पर हवा का दवाब सब से ज्यादा होगा । हम इस दवाब को PSI में मापे गए मतलब के पर सेकेअर इंच । इस जगह पर जो हवा का दवाब होगा वोह होगा 12 PSI और इस की जो रेंज होगी 3 किलोमीटर तक होगी। इस 3 किलोमीटर तक 98% लोग मर जाएंगे ।
Region 2 : इस हिस्से में हवा का दवाब पहले हिस्से के मुकाबले थोड़ा कम होगा । दोस्तों इस हिस्से में दवाब 5 PSI के आस पास होगा और इस की रेंज 5 किलोमीटर तक होगी। इस से लोग बुरी तरह से जख्मी हो जाएंगे और सब के कान के परदे फट जाएंगे क्यों की हमारे कान का पर्दा 5 PSI का दवाब नहीं झेल सकता।
यहाँ पर मारने वालो की संख्या 50 % होगी और जो बच जाएंगे उन के Airdrum फट जाएंगे वोह सुनने लाइक नही बचेगे।
Region 3 : इस Region की रेंज सेंटर से लेकर 7.5 किलोमीटर तक होगी । यहाँ पर  2 PSI का दवाब होगा और मरने वालों की संख्या 5% होगी और 45 % लोग बुरी तरह से जख्मी हो जाएंगे।
Region 4 : इस हिस्से पे दवाब सब से कम 1 PSI का  होगा । इस हिस्से मारने वालो की संख्या 0% होगी और 25 % लोग बुरी तरह से जख्मी हो जाएंगे । इस की मार क्षमता 12 किलोमीटर तक होगी और उस के बाद जो बच रहे वोह निपुंसक हो जाएंगे।
       तो यह था 1 मेगाटन का हायड्रोजन बेस बम्ब अगर यह नुक्लेअर बेस होता तो यहाँ मारने वालों की संख्या और बढ़ सकती थी  । इस के इलावा जो ऊपर धुंए का गुबार उठेगा और वोह वापस धरती पर आएगा तो उस से मारने वालों की संख्या और वी बढ़ जाएगी। इस के इलावा आने वाले कई साल तक वहां इंसानी जीवन संभव नही हो सकेगा।

No comments:

Post a Comment