Syrian civil war , Syria crisis details in hindi ( सीरियन युद्ध की पूरी कहानी )

Share:
Syria crisis explained in hindi : 

दोस्तों आप ने अपनी जिन्दगी में बहुत ही बुरे से बुरे दिन देखे होंगे , मगर मैं यह दावे के साथ कह सकता हूँ के आप की जिन्दगी में इतना बुरा वक़्त कभी नहीं आया होगा जितना के सीरिया के लोगो की जिन्दगी में , सोशल मीडिया पर वायरल हो सीरिया की की यह तस्वीरे सब कुछ बिआन करती हैं , मगर दोस्तों सीरिया में यह 2011 से चला आ रहा है ,जिस में दुनिया के कई बड़े देश और आतंकवादी ग्रुप शामल हैं ,जिन में से अमेरिका , रूस , टर्की  और अबतक वहां पर 5 लाख लोगो की मौत हो गई है और 20 लाख लोग घायल हो चुके हैं जिन में से बहुत सारे बच्चे हैं , तो दोस्तों आखिर ऐसे क्या कारण थे जो के आज सीरिया में हालत इतने बत्तर हो चुके हैं आज हम आप को इनी के बारे में शुरू से बताएँगे ।


Syria cold war : दोस्तों मैं आपको बता दूँ के सीरिया में बहुत ही ज्यादा मात्र में तेल पाया जाता है और आज तक किसी भी देश ने सीरिया पर सीधा हमला नहीं किया है और दूसरा यह पूरा युद्ध सिर्फ एक शक के आधार पर लड़ा जा रहा है क्यों की लड़ाई में शामल होने वाले सभी देशो में से किसी के पास कोई सबूत नहीं है और तीसरा किसी भी देश को सीरिया में रहने वाले लोगो की जिन्दगी से मतलब नहीं है उन को सिर्फ सीरिया की जमीन से मतलब है , तो चलिए दोस्तों हम बताते हैं आप को पूरी कहानी ।


असल यह युद्ध 2011 में सीरिया की डेमोक्रेसी को लेकर शुरू हुआ , सीरिया के Daraa शहर में कुछ लोगो ने सीरिया के President Bashar Al Assad को हटाने की मांग कर रहे थे थोड़े ही समय बाद यह आन्दोलन ने एक बहुत बड़ा रूप ले लिया और इसी को दबाने के लिए March 2011 ने बशर अल अस्साद के कहने पर सीरिया की आर्मी और पुलिस ने इन पर्दर्शन कारीओ पर गोलिया चला दी , और यही से सब शुरू हुआ july 2011 आते आते उन पर्दार्श्न्करियो ने न सिर्फ हथ्यार उठा लिए , सीरियन आर्मी वी दो भागो में वट गई कुछ लोगो और आर्मी के बड़े ऑफिसर  ने आर्मी छोड़ कर पर्द्र्शकरियो को Join कर लिया ,और वही से बना Syrian Rebels ग्रुप बना इस के थोड़े समय बाद ही अल्कैदा ने अपना एक और ग्रुप Jabhat al Nusra सीरिया में बना लिया जो के अल्कैदा की एक ब्रांच थी और इस के साथ ही सीरिया के उतरी भाग के Kurdish के लड़ाके जो के काफी समय से Kurdistan की मांग कर रहे थे वोह भी Syrian Rebels के साथ मिल गए ।

Kurdistan and Iran: जून 2012 आते आते kurdish लड़ाके न सिर्फ बशर अल असाद के खिलाफ लड़ रहे थे बल्कि उन को सऊदी अरब ने पैसे और हथ्यार देना भी शुरू कर दिया और दूसरी तरफ इरान ने बशर अस्साद को मदद देना शुरू कर दिया , इस का कारण यह था के इरान ने सभी लोग शिया मुसिल्मान थे और सीरिया में शिया की सरकार थी बशर असद एक शिया मुसिलमन थे जिस के लिए ईरान ने बशर अस्साद को हथ्यार और पैसा देना शुरू कर दिया , अब यह लड़ाई एक धार्मिक लड़ाई बन चुकी थी ।

America : अगस्त 2013 में मीडिया में यह खबर आये के बशर अल असाद ने पर्दार्शंकरियो को मारने के लिए Nuclear Chemical का इस्तमाल किया है , इस के कारण अमेरिका ने इस युद्ध में शामल हो गया और उस ने सीध सीरिया पे हमला नही किया उस ने वहां पर अल्कैदा के ग्रुप Jabhat al Nusra को हथ्यार देना शुरू कर दिया ।

ISIS :  मगर कुछ समय बाद Jabhat al Nusra भी दो भागो में वट गया और वही से ISIS की सथापना हुई जो के अल्कैदा के बिलकुल उल्ट काम करता था इस लिए अमेरिका ने ISIS को रोकने के लिए सीरिया के सरकार के साथ सम्झ्जोता किया और दोनों मिल कर ISIS के अतंकवादियो पर हमला करते थे ,और दूसरी तरफ Kurdish के लड़ाके और Syrian Rebels अब पूरी ताकत में थे।



Turkey : अगर Kurdish लड़ाके इस लड़ाई में जीत जाते और Kurdishtan बन जाता है तो turky का एक बहुत बड़ा हिस्सा कुर्दिश्तान में चला जाएगा इस लिए Turkey ने बशर असाद की मदद करनी शुरू कर दी ।

Russia : इसी दौरान बशर अल असद ने सितम्बर 2015 को Russia से मदद मांगी , Russia ने तुरंत आपनी आर्मी सीरिया में भेज दी जिस के चलते जो इलाके पर्दार्शंकरियो ने रोके थे उन को वापस छुड़ा लिया गया जिस में सीरिया का सब से बड़ा शहर Aleppo भी था ।
इस तरेह अब सीरिया में पर्दार्शंकारी और आतंकवादी कमज़ोर पड़ने शुरू हो गए थे और दूसरी तरफ अमेरिका के President Donald Trump बन चुके थे जो के Obama की तरेह बशर असाद को हटाना नहीं चाहते थे इस से लोगो को लगा के अब Russia और America मिल कर सीरिया में काम करेंगे और सीरिया युद्ध ख़तम हो जाएगा , मगर इसी के वीच अप्रैल 2017 में फिर से खबर आई के सीरिया के President बशर अस्साद ने लोगो पर फिर नुक्लेअर का इस्तमाल किया है जिस से अमेरिका ने पहली वार सीरिया पर सीधा हमला कर दिया ।



इस तरेह यह छोटे से मुद्दे पर शुरू हुआ युद्ध अब इतना बड़ा रूप ले चूका हैं , इस युद्ध में कोई भी देश एक दुसरे के उपर सीधा हमला नहीं करता सब देश अपने अपने हित के लिए सीरिया को निशाना बना रहे हैं  जिस से हर रोज सीरियन लोग मर रहे हैं और इस तरेह आज भी यह युद्ध चल रहा है जिस में हजारो बेकसूर लोग मर रहे हैं , आप को हमारा आर्टिकल कैसा लगा हमे कमेंट करके जरुर बताएं , अपना कीमती समय देने के लिए आप का धन्यवाद ।
Read this 

ISIS क्या है इस के लड़ाके क्या चाहते है (History Of ISIS In Hindi)

No comments