Yuvraj singh biography in hindi युवराज सिंह का जीवन परिचय

Share:

Yuvraj Singh biography in Hindi युवराज सिंह का जीवन परिचय  


  नमस्कार दोस्तों आज हम बात करने जा रहे हैं एक ऐसे क्रिकेट खिलाड़ी की जिन्होंने भारत का नाम पूरी दुनिया में रोशन किया है ।आज हम बात करने जा रहे हैं एक ऐसे प्रेरणादायक शख्स के बारे में जिन्होंने कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी को भी मात दे दी और अपना क्रिकेट कैरियर दोबारा शुरू किया ।जी हां दोस्तों मैं बात करने जा रहा हूं भारतीय क्रिकेट टीम के सिक्सर किंग युवराज सिंह के बारे में ।6.1 फीट का और 78 किलो वजनी  यह खिलाड़ी  जब क्रीज पर आता है  तो  दुनिया के बड़े-बड़े बॉलर  के पसीने छूट जाते हैं ।युवराज सिंह आज भारतीय क्रिकेट टीम के बहुत ही जाने माने खिलाड़ी हैं पूरी दुनिया में युवराज सिंह के लाखों फैन हैं तो चलिए दोस्तों इस महान खिलाड़ी की जीवनी को हम शुरू से जानते हैं।

yuvraj singh biography hindi


जन्म और बचपन  : 

युवराज सिंह का जन्म 12 दिसंबर 1981 को चंडीगढ़ में हुआ। युवराज सिंह के पिता का नाम जोगराज सिंह है जो के पूर्व क्रिकेटर रह चुके हैं ।इसके अलावा युवराज सिंह के पिता पंजाबी फिल्म इंडस्ट्री के जाने माने अभिनेता है। यवराज सिंह की माता का नाम शबनम सिंह है। इसके अलावा युवराज सिंह के भाई का नाम जोरावर सिंह है। छोटी ही उम्र में युवराज सिंह के माता-पिता का तलाक हो गया था जिसके चलते युवराज सिंह को अपनी माता के पास रहना पड़ा। 

युवराज सिंह ने अपनी पढ़ाई  DAV स्कूल  चंडीगढ़ से  हासिल की । युवराज सिंह को बचपन में टेनस और रोलर स्केटिंग करना बहुत अच्छा लगता था मात्र 11 साल की उम्र में युवराज सिंह ने रोलर स्केटिंग में 14 अवार्ड जीत लिए थे। मगर युवराज सिंह के पिता योगराज सिंह अपने बेटे को एक क्रिकेटर बनाना चाहते थे जिसके चलते उन्होंने नाराज होकर एक दिन युवराज सिंह के जीते हुए सभी मेडल और ट्रॉफी बाहर फेंक दिए और पिता के दबाव के चलते युवराज सिंह ने रोलर स्केटिंग छोड़ कर अपना ध्यान क्रिकेट की तरफ लगाया ।बचपन में युवराज सिंह के कोच नवजोत सिंह सिद्धू थे लेकिन उससे युवराज सिंह के खेल में ज्यादा निखार नहीं आया ।जिसके चलते जोगराज सिंह सिंह ने खुद युवराज को ट्रेनिंग देना शुरू किया।

नवजोत सिंह सिद्धू ने एक इंटरव्यू में बताया कि जब युवराज के पिता युवराज को स्टेडियम में ट्रेनिंग देते थे तो आधे स्टेडियम की लाइट्स बंद कर दी जाती थी और टेनिस बॉल को गीला किया जाता था जिससे वह और तेज निकलती थी और युवराज सिंह को अंधेरे में उस गेंद को जज करना पड़ता था । जिससे युवराज सिंह की बैठक में चमत्कारी निखार आया ।

Cricket Career :

युवराज सिंह ने  अपने क्रिकेट कैरियर की शुरुआत 1996 की जब उन्हें अंडर-19 पंजाब के लिए चुना गया आगे चलकर युवराज सिंह को भारतीय अंडर-19 के लिए चुन लिया गया। युवराज सिंह ने अपने पहले ही टूर्नामेंट में बहुत अच्छा प्रदर्शन किया। यह टूर्नामेंट ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ था जहां पर उनका सर्वाधिक स्कोर 84 रन था जो कि 82 गेंदों में बनाए थे ।

इसी टूर्नामेंट में युवराज सिंह को मैन ऑफ द टूर्नामेंट  से भी नवाजा गया ।अगर हम टेस्ट मैच की बात करें तो युवराज सिंह ने 2002 में इंग्लैंड के खिलाफ अपने सबसे ज्यादा रन 324 बनाएं। 2003 में बांग्लादेश के खिलाफ युवराज सिंह ने अपना पहला शतक जमाया 2005 से 2006 के बीच युवराज सिंह को 3 बार मैन ऑफ द सीरीज भी चुना गया।

अगर हम T20 की बात करें तो  युवराज सिंह को 2007 में पहली बार भारतीय T20 क्रिकेट टीम मैं शामिल किया गया जब राहुल द्रविड़ ने भारतीय कप्तानी से इस्तीफा दिया तो महेंद्र सिंह धोनी को कप्तान बनाया गया और युवराज सिंह को एक हिटर के रूप में टीम शामिल किया गया ।

2007 में वर्ल्ड कप से पहले भारत में इंग्लैंड के खिलाफ एक सीरीज खेली जिसमें युवराज सिंह को गेंदबाजी करते समय इंग्लैंड के एक खिलाड़ी मसकीयस ने 5 गेंदों में 5 छक्के जड़े । जिस का बदला युवराज सिंह ने 19 सितंबर 2007 T20 वर्ल्ड कप मैं एक मैच के दौरान इंग्लैंड के गेंदबाज स्ट्रीट ब्रॉड को छह गेंदों में छह छक्के जड़कर लिया।

IPL Career : 

अगर हम युवराज सिंह की IPL कैरियर की बात करें तो वह उनके लिए इतना अच्छा नहीं रहा ।अपने IPL कैरियर में युवराज सिंह अपने फैंस की उम्मीदों पर खरे नहीं उतर पाए हैं ।2011 में अपना इलाज कराने के बाद युवराज सिंह 2012 में भारत आए। 

सबसे पहले युवराज सिंह को किंग्स इलेवन पंजाब  में  बतौर कप्तान  खिलाया गया  लेकिन युवराज सिंह का प्रदर्शन इतना अच्छा नहीं रहा । उससे अगले साल पुणे वॉरियर्स ने 14 करोड़ में युवराज सिंह  को खरीदा। उससे अगले ही साल कॉन्ट्रोवर्सी के चलते यह टीम आईपीएल से बाहर हो गई ।2014 में युवराज सिंह को रॉयल चैलेंज बैंगलोर ने 14 करोड़ में खरीदा 2015 में युवराज सिंह को दिल्ली ने 16 करोड़ मैं खरीदा। 2016 में हैदराबाद ने युवराज सिंह को 7 करोड़ में खरीदा  युवराज सिंह का IPL कैरियर इतना अच्छा नहीं रहा।

Records : 


युवराज सिंह ने बहुत से रिकॉर्ड अपने नाम किए हैं जिनमें सबसे पहले छह गेंदों पर छह छक्के लगाने का रिकॉर्ड युवराज सिंह के नाम है T20 के इतिहास में ऐसा करने वाले युवराज सिंह पहले खिलाड़ी हैं। इसके अलावा युवराज सिंह पहले ऐसे ऑलराउंडर हैं जिन्होंने वर्ल्ड कप में 300 से अधिक कराना और 15 विकेट लिए हो । 2011 वर्ल्ड कप में सबसे लंबा छक्का मारने का रिकॉर्ड भी  युवराज सिंह के नाम है जो कि 120 मीटर लंबा था।


Faimly : 

युवराज सिंह के पिता का नाम योगराज सिंह और उनकी माता का नाम शबनम सिंह है इसके अलावा युवराज सिंह के भाई का नाम जोरावर सिंह है 2015 में युवराज सिंह ने अपनी फ्रेंड हेजल कीच के साथ इंगेजमेंट कराई और 30 नवंबर 2016 को दोनों ने शादी कर ली ।

Interesting Fact about yuvraj singh life:

युवराज सिंह को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट टीम में सबसे पहला चेक 21 लाख का मिला था जो के उन्होंने अपनी माता को दिया था।


युवराज सिंह ने 2 पंजाबी मूवी मैं भी काम किया है जिनमें से "पुत सरदारा दे "और "मेहंदी शगना "दी हैं।
युवराज सिंह को उनके फैन युवी कह कर बुलाते हैं।

युवराज सिंह ने एक बॉलीवुड मूवी "Jumbo" मैं काम किया है जो कि एक एमिनेशन मूवी है जिसमें युवराज सिंह ने अपनी आवाज रिकॉर्ड कराई है।

2011 में युवराज सिंह ने कैंसर का इलाज कराने के बाद YouWeCan नाम की एक संस्था चलाई है जो कैंसर के मरीजों की सहायता करती है।


युवराज सिंह ने अपनी जिंदगी पर आधारित एक ऑटो बायोग्राफी भी लिखी है जिसका नाम "टेस्ट ऑफ माय लाइफ" है।

युवराज सिंह का लकी नंबर 12 हैं इसलिए वह 12 नंबर की जर्सी पहनते हैं।

इसके अलावा 2011 में युवराज सिंह की जिंदगी में एक बहुत बड़ा बदलाव आया जब उन्हें पता चला कि उनके लंग में कैंसर है लेकिन अच्छी बात यह थी यह अभी पहली स्टेज पर ही था। इसलिए युवराज सिंह अमेरिका गए वहां उन्होंने बीसटन मैं कीमोथैरेपी कराई जिसकी 1 साल बाद मैं बिल्कुल ठीक हो गए।

तो दोस्तों यह तो थी युवराज सिंह की जिंदगी की कहानी हमें उम्मीद है यह आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगती होगी। अपना कीमती समय देने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद और आपको हमारा आर्टिकल कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

No comments