Alfred Nobel Biography in Hindi अल्फ्रेड नोबेल की जीवनी

दोस्तों आज मैं जिस वयक्ति की बात करने जा रहा हु शायद आप में से बहुत लोग उस के बारे में जानते ही होंगे । आज मैं बात करने जा रहा विज्ञानक Alfred Nobal के बारे में ।

आप को पता ही होगा के नोबल पुरस्कार दुनिया में सब से बड़ा अवार्ड है , यह पुरस्कार दुनिया भर में शांति, प्रगति दुनियाा वाले लोगो को दिया जाता  है ।

लेकिन आप को यह पढ़ कर बहुत हैरानी होगी के शांति के लिए दिया जाने वाला यह पुरस्कार Dynamite को खोजने ने वाले विज्ञानक अल्फ्रेड नोबल की याद में दिया जाता है ।

जिस को लोग अपने इस  अविष्कार की वजेह से बहुत नफरत करते थे और अल्फ्रेड नोबल को मौत का सुदागर नाम से भी बुलाया करते थे , आपको इस की पूरी कहानी हम शुरू से बताते हैं ।

Profile Of Alfred Nobel

Name Alfred Nobel
Date Of Birth21 Oct 1833
Birth PalaceStockholm, Sweden
Death Date 10 Dec 1896
ProfassionFounder of Dynamite
NationaltySwedesh

Alfred Nobel Biography in Hindi अल्फ्रेड नोबेल की जीवनी

अल्फ्रेड नोबल का जनम 21 oct 1833 को स्वीडन शहर में हुआ , अल्फ्रेड नोबल के पिता पहाड़ो से पत्थर तोड़ कर पुल बनाने का काम किया करते थे ।

मगर स्वीडन में काम की बहुत कमी होने के कारण अल्फ्रेड का परीवार रूस देश के सेंटपेतेर्ब्र्ग में आ कर रहने लग गया , यहाँ आ कर अल्फ्रेड का परिवार रूस की सर्कार के लिए बंदूक में पाए जाने वरूद को बनाया करते थे ।

फक्टेरी खोलने के थोड़े समय बाद क्रीमिया का युद्ध शुरू हो गया जिस में बरूद मांग बहुत तेज़ी से बढ़ गई और अल्फ्रेड के पिता का कारोबार तेज़ी से चलने लगा ।

उन के पास बहुत सारे पैसे बी हो गए , जिस से अल्फ्रेड के पिता ने अल्फ्रेड की पढाई के लिए अपने घर में अच्छे अच्छे टीचर रख लिए जिस से अल्फ्रेड को chimistery में अपनी अछि पकड़ बना ली । उस के बाद अल्फ्रेड अमेरिका अपनी अगली पढाई के लिए चले गे ।

Invention Of Dynamite

अपनी पढाई पूरी करने के बाद अल्फ्रेड पेरिस में आ गे यहाँ पर वोह अस्कानियो से मिले जिनो ने तीन साल पहले ही Nitroglycerin को खोजा था ।

यह एक पैसा विस्फोटक पदार्थ था जो वरूद से कही जायदा शक्तिशाली हुआ करता था , मगर उस में एक कमी थी क्यों की वोह एक जगह से दूसरी जगह पर नहीं लजाया जा सकते थे क्यों कु वोह कही वी किसी वी जगह पर फट सकता था ।

उसी के बीच क्रीमिया का युद्ध वी ख़तम हो गया था इस लिए अल्फ्रेड का परिवार वापस स्वीडन आ में आ कर रहने लग गया , साथ ही अल्फ्रेड Nitroglycerin का एक सेम्पल लेकर अपने घर आ गे , अल्फ्रेड चाहते थे इस में शोध करना चाहते थे जिस से इस से विस्फोट न हो ।

अल्फ्रेड अपने भाई के साथ मिल कर इस पे रिसर्च करना शुरू किया मगर इसी वीच 3 sep 1864 उनकी लैब में एक व्लास्ट हो गया जिस से अल्फ्रेड के भाई की मिरतु हो गई ।

जिस के बाद अल्फ्रेड के पिता ने यह काम छोड़ दिया , और स्वीडन की सरकार ने वी रिसर्च लैब शहर में खोलने पर रोक लगा दी । यह अल्फ्रेड और उस के परिवार के लिए बहुत कठिन समय था , मगर अल्फ्रेड ने कुछ समय बाद शहर के बहार एक और लैब बनवाया , और कुछ सालो के बाद ही अल्फ्रेड ने NItroglycerin में सिलिका मिला कर उस का एक पेस्ट बना लिया , जिस को कही वी लेकर जा सकते थे , और इस को कोई वी आकार दिया जा सकता था , इस खोज का नाम उनोह ने Dynamite नाम से किया ।

Starting Of Nobel Prize

उन के दुवारा बनाया गिया Dynamite की मांग पूरी दुनिया में होने लगी और उनोह ने अपनी इस कम्पनी को 20 से जयादा देशो में खोल दिया , मगर समय के साथ इस का परियोग युद्ध में वी होने लगा , इस की वजेह से बहुत से लोगो की जान चली गई जिस का पूरा आरोप अल्फ्रेड नोबल पर लगा , अब लोग उन् से नफरत करने लगे थे , और लोग अल्फ्रेड नोबल को मौत का सुदागर बुलाते थे ।

Also Read Thomas Edison कैसे माँ ने एक पागल को सदी का महान विज्ञानक बनाया 

इस के बाद अल्फ्रेड नोबल बहुत दुखी हुए , अपनी मेहनत से पूरी दुनिया में नाम करने के बाद वेह बदनाम हो कर नहीं मरना चाहते थे , इस लिए उनोह ने लोगो की हेल्प करनी शुरू कर दी और मरने के बाद अपनी सारी सम्पति उन लोगो को पुरस्कार देने के लिए दान कर दी जो दुनिया मे शांति और परगति के लिए काम करेंगे ।

Death Of Alfred Nobel

10 dec 1896 को अल्फ्रेड नोबल की मौत हो गई , लेकिन हर साल उन के दुवारा दान की गई सम्पति से इस विशव का सब से बड़ा पुरस्कार नोबल पुरस्कार दिया जाता है , आज लोग उन को एक महान विज्ञानक और समाज सेवक के नाम से याद किया करते हैं।

Quotes Of Alfred Nobel

अगर हमें अपनी जिंदगी में आगे बढ़ना है तो हमको कुछ महान लोगों के द्वारा कही गई बातों के ऊपर अमल जरूर करना चाहिए ऐसे ही एक महान व्यक्ति अलफ्रेड नोबेल के द्वारा कही गई कुछ बातें जिनको हम हमारे इस आर्टिकल में बताने वाले हैं अल्फ्रेड नोबेल के द्वारा लिखे गए कुछ कोट्स नीचे दिए हैं ।

Quote 1

Alfred.nobel.quotes

Quote 2

Alfred.nobel.quotes

Quote 3

Alfred.nobel.quotes

Quote 4

Alfred.nobel.quotes

Quote 5

Alfred.nobel.quotes

Quote 6

Alfred.nobel.quotes

Quote 7

Alfred.nobel.quotes

Quote 8

Alfred.nobel.quotes

दोस्तों अगर आप को हमारा आर्टिकल Alfred Nobel Biography in Hindi अल्फ्रेड नोबेल की जीवनी अच्छा लगा तो कमेंट जरुर करे और आगे ऐसे आर्टिकल की जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे , धनावाद ।

One thought on “Alfred Nobel Biography in Hindi अल्फ्रेड नोबेल की जीवनी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *